Thursday, July 25आदिवासी आवाज़

भुगतान नहीं होने से एसटीपी निर्माण करने वाली कंपनी ने काम बंद कर मशीन व कामगारों को चंद्रपुरा शिफ्ट किया

NAGADA : The Adiwasi Media

बोकारो थर्मल ः 
बोकारो थर्मल में एसटीपी का निर्माण कार्य करने वाली कंपनी मेसर्स भरत जी पटेल ने बकाये का भुगतान नहीं होने के कारण बुधवार को स्थानीय साइट पर कार्यरत मशीनों एवं सभी 35-40 कामगारों को डीवीसी चंद्रपुरा साइट पर शिफ्ट कर दिया। इस संबंध में कंपनी के स्थानीय साइट इंचार्ज दीन दयाल जांगीर का कहना था कि कंपनी द्वारा स्थानीय स्तर पर एसटीपी के अब तक जो भी कार्य किये गये हैं, उसके एवज में भुगतान करने को लेकर फरवरी माह में बिल सिविल में जमा किया था। परंतु डीवीसी सिविल के डीजीएम विश्व मोहन गोस्वामी द्वारा बिल भुगतान नहीं किया जा रहा है। कहा कि बिल भुगतान नहीं करने की जानकारी जीएम ओएंडएम, एचओपी सहित मुख्यालय कोलकाता को भी दी गई। इसके बावजूद बिल का भुगतान नहीं किया गया है। बिल का भुगतान नहीं किये जाने पर कामगारों का भुगतान सहित अन्य प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

मार्च 2022 में कंपनी को मिला था कार्यादेश
बोकारो थर्मल में दो एसटीपी निर्माण करने को लेकर डीवीसी के द्वारा निविदा के द्वारा 27.5 करोड़ रुपये का कार्य मेसर्स भरत जी पटेल को दिया गया था। कंपनी को आवंटित कार्यादेश के तहत एसटीपी निर्माण कार्य 15 महीनों में पूरा करना था। कार्यादेश के तहत कंपनी को जून 2023 तक कार्य को पूरा कर देना था, परंतु दो वर्ष से भी ज्यादा समय होने को है, कार्य पूरा नहीं हो पाया है। कंपनी ने जून 2022 में निर्माण कार्य आरंभ किया था। कार्य में विलंब को लेकर कंपनी के स्थानीय इंचार्ज दीन दयाल जांगीर का कहना है कि डीवीसी प्रबंधन के द्वारा निर्माण कार्य को लेकर साइट उपलब्ध नहीं करवाने के कारण ही कार्य में विलंब हो रहा है। कहा कि एसडी एक, दो, तीन के पीछे आईएसएलएफ पांच नंबर का पंप हाउस निर्माण किया जाना है। जिस स्थान पर पंप हाउस का निर्माण किया जाना है, वहां अवैध कब्जाधारियों ने घर बना लिया है, पंरतु डीवीसी प्रबंधन आज तक उसे हटा नहीं पाया है, जिसके कारण निर्माण कार्य नहीं हो पा रहा है। इसी प्रकार कोनार नदी के किनारे एक नंबर एसटीपी का निर्माण कार्य करना है, परंतु निर्माण स्थल पर 17 पेड़ों की कटिंग को लेकर फाॅरेस्ट क्लियरेंस को लेकर मामला फंसा हुआ है, जिसके कारण निर्माण नहीं हो पा रहा है। कंपनी को बिल भुगतान के मामले को लेकर डीजीएम सिविल विश्व मोहन गोस्वामी से पूछा गया तो उनका कहना था कि वे मीटिंग में हैं। कंपनी द्वारा निर्माण कार्य बंद कर सभी मशीनों एवं कामगारों को चंद्रपुरा शिफ्ट करने को लेकर जीएम ओएंडएम एस भट्टाचार्य ने पूछे जाने पर कहा कि उन्हें मामले की जानकारी नहीं है, फिर भी वे मामले की जांच करेेंगे।