Thursday, July 25आदिवासी आवाज़

राजेश की खोरठा कविता – ‘हाम के हों ?’

NAGADA : The Adiwasi Media

वर्ष 2001 में “आवाज” धनबाद एवं “बिहार ऑब्जर्वर” धनबाद में प्रकाशित कविता

“हाम के हों ?”

हाम के हों ?
कहाँ से आइल हो ?
काहे आइल हौं ?

हामर मनेक भीतरीया केवाइर
जखन खुइल जाहे
आर, हाम सोंचें लागों हों,
तखन,
हामर मनें एक हुल उठे हे
कि हाम के हों ?
कहाँ से आइल हों ?
काहे आइलू हो ?
के भेजल हे ?
काहे भेजल है ?

सवालें – सवाल उठल परें
हाम ओरझराइ जा हों।

कोइ आइकें नाञ् बतवे
हामर मनेक उठल सवालेक जवाब
तखन,
हामर मने एक विचार आवे हे,
कि -?
हाम चुनाइल हों,
परकीरतिक आस पुरबेक लेल
कि आर कुछ लेल ?
सोचें हों, मेंतुक-
सोझरावेक घुँरोटे,
ओरझराई जाहों।

जदि कोई कहे –
तोंञ् पाइन के एक बूंद हें – समुदरेक
हंसी. ढेढा करिहें – ढेव नियर
बोलीं मिसरी घोइरकें
लोकेक पियास मेंटाइहें
जीनगीक दान दइके
बढिहें आगु।

मेंतुक कोउ –
कहे ‘बतवे-ओला हवे तब ना ?
बस ! आर सहन नाञ् हवे ।
केउ आइकें समझावे, नाञ् त –
हाम एहे पूछते रहबइ कि
हाम के हों ?
काहे हों ?

मनेक उठल सवाल लेकें
दूर-दर भटकल घरों हों
मेंतुक –
कुछ हाथ नाञ् लागे ।

तखन-
सोचें हो ।
हाम “मैं” हों
“मैं” बा “अहम्”
“अहम्” माने “घमण्ड
मेंतुक -हामर मने घमण्ड नाञ्
काहे कि हों के
हामरा ई -पता नाञ्
फोर घमण्ड कइसन ?

हाइर – पाइर हाम
एहे माइन ले हों
हाम “हाड़ मासेक” मुरुत हों
साइद वहे हों ।
“हाम” आर “हामर”
फेराञ् नाञ् पइर
“मैं” आर हाम से उपर
हाम गोटे धरतीक हों।
हां हाम गोटें धरतीक हों ।
हाम गोटे धरतीक हो ।